अमरूद के फायदे, उपयोग और नुकसान – All About Guava (Amrud) in Hindi

अमरुद भारत में पाया जाने वाला सबसे आम फल है। भारत तथा अन्य देशों में भी अमरुद को काफी पसंद किया जाता है। भारत में लगभग जिस भी घर में बगीचा होता है। वहां पर आपको अमरूद का पेड़ जरूर देखने को मिलेगा। लगभग हर व्यक्ति अमरूद का सेवन जरूर करता है। तथा इसका सेवन सर्दियों में अधिक किया जाता है।

सभी लोग अमरूद खाते तो जरूर हैं, लेकिन क्या आपको अमरुद के फायदे, उपयोग एवं नुकसान (Guava benefits, uses, and side effects)  के बारे में जानकारी है? यदि नहीं तो आज हम इस लेख में हम अमरूद के 10 फायदे, उपयोग और नुकसान के बारे में बताने वाले हैं। कृपया इस लेख को अंत तक पढ़ें।

अमरूद के फायदे, उपयोग और नुकसान (Guava benefits Uses and side effect)

अमरुद का उत्पादन सबसे अधिक भारत की जलवायु में होता है। अमरूद की पैदावार भारत में सबसे अधिक सर्दियों के मौसम में होती है और सबसे अधिक मात्रा में इसका व्यापार किया जाता है। इसके कारण इस फल को निर्धन जनता का प्रमुख फ़ल भी कहा जाता है। 

अमरूद की पैदावार के लिए गर्म तथा शुष्क जलवायु सबसे उत्तम होता है। भारत में अमरूद का उत्पादन 17 वी शताब्दी में ही हो चुका था।

अमरूद की भी दो तरह की प्रजातियां होती हैं। पहली लाल और दूसरी सफेद। दोनों तरह की प्रजातियां ऊपर से दिखने में तो हरी होती है।

लेकिन अंदर से भिन्न होती हैं। साथ ही भारत में कई तरह के अमरुद कई अन्य नामों से भी प्रसिद्ध है। जैसे –  इलाहाबादी सफेदा, लाल गूदेवाला, चित्तीदार, करेला, बेदाना तथा अमरूद सेब।

अमरूद के 10 फायदे (10 Benefits of Guava) –

अमरूद स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है क्योंकि इसमें विटामिन सी, विटामिन ए तथा विटामिन बी जैसे गुण पाए जाते हैं।

1. पाचन शक्ति को सही बनाएं रखने में मददगार

पाचन शक्ति को सही बनाए रखने के लिए अमरूद के पत्ते का काढ़ा बनाकर पीने से फायदा हो सकता है। क्योंकि अमरूद के पत्तों में क्षरीयता का गुण पाया जाता है, जोकि पेट के दर्द तथा एसिडिटी में बहुत ही लाभदायक होता है। अमरूद का सेवन करने से भी पाचन शक्ति सही रहती है, क्योंकि इसमें फाइबर सही मात्रा में पाया जाता है।

2. दंत तथा मुँह के रोगों के लिए सहायक

केवल अमरुद ही नहीं बल्कि इसके पत्ते भी बहुत लाभकारी होते हैं। दांत से संबंधित रोगों के लिए अमरुद के पत्ते काफी मददगार होते हैं। अमरूद के पत्तों को चबाने से या पत्तों को गरम पानी में उबालकर कुल्ला करने से दातों और मुंह से संबंधित सभी रोग दूर हो जाते हैं।

3. कब्ज से संबंधित समस्या के लिए फायदेमंद

अमरूद का सेवन करने से कब्ज की समस्या दूर होती है। सुबह-सुबह अमरुद को काटकर काली मिर्च तथा काला नमक के साथ इसका सेवन करने पर कब्ज का निवारण हो जाता है। साथ ही इससे खट्टी डकारें या बदहजमी जैसी समस्या भी दूर होती है।

4. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक

आज कोविड-19 समय में रोग प्रतिरोधक क्षमता का होना बहुत ही आवश्यक है। जिसे बढ़ाने में अमरूद हमारी मदद करता है। दरअसल अंदर से सफेद रंग के अमरूद में विटामिन अधिक मात्रा में पाए जाते हैं जिससे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार होता है और यह प्रतिरक्षा प्रणाली रोगों को पैदा होने से रोकती है। जिससे हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है।

5. वजन कम करने में सहायक

अमरूद में कम कैलोरी पाई जाती है। लगभग 100 ग्राम अमरुद में केवल 51 कैलोरी होती है। जिसके कारण यह वजन नहीं बढ़ने देता, बल्कि यह वजन को कम करता है।

6. डायबिटीज के लिए फायदेमंद

मधुमेह रोगियों के लिए अमरूद काफी लाभदायक मानाजाता है क्योंकि यह ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है। अंदर से लाल रंग के अमरूद में एंटीऑक्सीडेंट तत्व तथा हाइपरग्लिसमिक तत्व पाए जाते हैं। जोकि डायबिटीज के लिए फायदेमंद होते हैं।

7. हृदय रोगों को ठीक करने में सहायक

एक शोध के द्वारा यह पता चला था कि यदि हर दिन लगभग 1 किलो अमरुद का सेवन किया जाए तो हृदय के रोगों को कम किया जा सकता है। तथा यह हृदय के ब्लॉकेज को भी कम करता है। अमरुद में प्रचुर मात्रा में फाइबर भी पाया जाता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल कम होता है और यदि आपके शरीर में कम कोलेस्ट्रॉल होगा तो आप को हृदय की बीमारी भी नहीं होगी।

8. सर्दी जुखाम से राहत दिलाने में सहायक

जैसा कि हमने आपको बताया कि अमरुद में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है और विटामिन सी रोग प्रतिरोधक क्षमता का भी विकास करता है। इसलिए इसका सेवन करने से यह जुखाम के कीड़ों से लड़ने में मदद करता है, जिससे आपको सर्दी जुखाम में राहत मिलती है। अमरूद के बीज छाती में जमे बलगम या कफ़ को निकालने में मदद करते है। जिससे सर्दी जुखाम में आराम मिलता है।

9. थायराइड रोग के लिए अमरूद के फायदे

थायराइड रोग गले से होता है और इसमें व्यक्ति का शरीर फूल जाता है। अमरूद का सेवन करने से थायराइड के रोग में काफी आराम मिलता है। एक रिसर्च से पता चला है कि अमरूद का सेवन करने से थायराइड रोगियों के स्थिति में काफी सुधार आया है लेकिन यह किस तरह से लाभ पहुंचाता है इसके बारे में अधिक जानकारी नहीं मिल पाई है।

10. डिप्रेशन को दूर करने में मददगार

अमरूद में मैग्नीशियम भी पाया जाता है और मैग्नीशियम का काम होता है, तनाव को कम करना, इसलिए अमरूद का सही मात्रा में सेवन करने से यह व्यक्तियों के तनाव को दूर करने में मदद करता है।

अमरूद के नुकसान ( Side effects of Guava) –

सभी फलों के यदि कुछ फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं आइए अमरूद के नुकसान के बारे में जानते हैं।

• अमरुद में पोटेशियम भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है और पोटैशियम किडनी के रोगियों के लिए नुकसानदेह होता है इसलिए किडनी के रोगियों को अमरुद का सेवन नहीं करना चाहिए।

• अमरूद खाने के बाद तुरंत पानी पीने से नुकसानदेह साबित हो सकता है, तथा इससे सर्दी खांसी की भी शिकायत हो सकती है।

निष्कर्ष (Conclusion) –

तो आज के इस लेख में हमने आपको अमरूद के फायदे, उपयोग तथा नुकसान (Guava Benefits, uses, side effects) के बारे में जानकारी दी। उम्मीद है कि आपके लिए यह लेख मददगार साबित होगा। यदि आपने मन में कोई भी सवाल हो तो आप कॉमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

Leave a Comment