ड्रैगन फ्रूट्स के 10 फायदे और नुकसान | Dragon Fruit Benefits & Side Effects In Hindi

healthy lifestyle के लिए हमारे जीवन मे फल का बहुत अधिक महत्व है। ऐसा ही एक फल है Dragon fruit जिसका नाम शायद आपको पता होगा मग़र उस फल के बारे में ज्यादा जानकारी कम ही लोगों को है। क्या आप भी सोचते हैं Dragon fruit benefits & side effects के बारे में ?

तो आज हम इस लेख में  Dragon fruit benefits & side effects in hindi के बारे में विस्तार से जानेंगे । पूरा जानने के लिए हमारे लेख के साथ अंतिम तक बने रहें । ड्रैगन फ्रूट का स्वास्थ्य के लिए फायदे जानकर आप चौक जायेंगे ।

ड्रैगन फ्रूट्स के 10 फायदे और नुकसान | Dragon Fruit Benefits & Side Effects In Hindi

Dragon fruit benefits & side effects जानने से पहले ड्रैगन फ्रूट्स कैसा होता है यह समझ लेते हैं । यह कुरकुरे और मीठे स्वाद के साथ कीवी और नाशपत्ती के मिश्रण जैसे होता है। 

इसका  खेती ज्यादातर मध्य एशिया और दक्षिण अमेरिका में कम वर्षा वाले क्षेत्रों में किया जाता है। भारत मे भी बहुत जगहों पर इसकी खेती की जाती है। 

10 Benefits of dragon fruit in hindi

ड्रैगन फ्रूट्स में बहुत अधिक मात्रा में विटामिन सी , प्रोटीन , मैग्नीशियम जैसे तत्व मौजूद होते हैं जो हमारे शरीर के लिए बहुत लाभप्रद है । ड्रैगन फ्रूट्स के 10 फायदे निम्नलिखित हैं ।

1.रोगप्रतिरोधकक्षमताबढानेमें

ड्रैगन फ्रूट्स में 9% के आसपास विटामिन सी मौजूद होता है और विटामिन सी शरीर मे श्वेत रक्त कणिकाओं की संख्या में वृद्धि करता है जिससे शरीर में रोग से लड़ने की क्षमता का विकास होता है। 

2.कैंसरकेबचावमें

ड्रैगन फ्रूट्स में एंटीऑक्सीडेंट , एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट जैसे तत्व मौजूद होते हैं जो कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट करने में सहायता करतें है ।ड्रैगन फ्रूट्स महिलाओं के ब्रेस्ट कैंसर के लिए बहुत उपयोगीहै। अच्छे जीवनशैली के साथ प्रतिदिन ड्रैगन फ्रूट का सेवन करने से कैंसर जैसे रोग से बचा जा सकता है ।

3. हृदयरोगमें

ड्रैगन फ्रूट्स के नियमित सेवन से शरीर मे कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहता है। जो कि हृदयघात जैसे गम्भीर रोग की आंशका को दूर करने में सहायक है   । फल के अंदर मौजूद फैटी एसिड भी हृदय को मजबूती प्रदान करता है जो कि हृदयघात की सम्भावना को कम करता है ।

4. आंखोंकेलिएअच्छाहोताहै

यह फल आंखों की उम्र बढाने के लिए सबसे अच्छा फल माना जाता है । ड्रैगन फ्रूट्स में बीटा – कैरोटिन होता है जो कि आंखों को पोषण देकर मोतियाबिंद , अंधत्व जैसे रोग की समस्या को दूर करता है । 

5. गर्भावस्थामें

कैल्शियम की प्रचुर मात्रा के कारण भ्रूण में हड्डियों के विकास में सहायक है । यह  फल विटामिन बी  आयरन और फोलेट का अच्छा श्रोत होने के कारण गर्भवती माता के शरीर मे खून की कमी होने से बचाव करता है । मैग्नीशियम की उपस्थिति भी गर्भावस्था के लिए लाभप्रद है। 

6. स्वस्थहड्डियोंकेलिए – 

ड्रैगन फ्रूट में 18 % के आसपास मैग्नीशियम होता है ।  मैग्नीशियम से ही हड्डियों का पुनर्निमाण होता है इसलिए ड्रैगन फ्रूट हड्डियों के पुनर्निर्माण , जोड़ो के दर्द , तथा मजबूती के लिए लाभप्रद है । रोजाना 200 ग्राम ड्रैगन फ्रूट आपके शरीर की हड्डियों की मजबूती के लिये पर्याप्त है।

7.मधुमेहरोगकेलिए

ड्रैगन फ्रूट प्राकृतिक रूप से एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत है इसके साथ साथ इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है जो कि रक्त से शर्करा की मात्रा को संतुलित करता है । अगर आप मधुमेह से बचना चाहते हैं तो अपने खानपान में नियमित रूप से ड्रैगन फ्रूट को शामिल करें ।

8.पाचनसम्बंधीसमस्याओंकेलिए

इसमें एक तरह का रासायनिक मिश्रण होता है जो आंत में स्वस्थ बैक्टरिया को बढाते हैं । साथ ही साथ  ड्रैगन फ्रूट फाइबर से युक्त होता है जो पाचन सम्बंधी विकार को दूर करके शरीर मे पाचन तंत्र को मजूबत करता है ।

9. डेंगूसेबचावमें

ड्रैगन फ्रूट में विटामिन सी होने के कारण यह प्राकृतिक रूप से  शरीर को अन्य बीमारियों से लड़ने के लिए मजबूत करता है साथ ही वैज्ञानिक शोध से यह पता चला है कि इसमें एंटीवायरल तत्व मौजूद होते है जिसके  कारण यह फल डेंगू जैसे वायरल इंफेक्शन से शरीर का बचाव करने में समर्थ है ।

10. त्वचाकीदेखभालकेलिए – 

ड्रैगन फ्रूट मेंएंटीऑक्सीडेंट होने के कारण यह धूप से त्वचा का बचाव करती है शुष्क त्वचा में नमी लाने के लिए इस फल का उपयोग किया जाता है । विटामिन सी भी त्वचा के देखभाल के लिए उपयोगी है । प्रतिदिन ड्रैगन फ्रूट का शेक बनाकर पीने से लगभग सभी प्रकार के त्वचा सम्बंधी परेशानी से निजात पाया जा सकता है 

ड्रैगनफ्रूटकेनुकसान 

सामान्यतः ड्रैगन फ्रूट के सेवन से शरीर को कोई नुकसान नहीं होता । परन्तु जरूरत से ज्यादा सेवन में कुछ इस प्रकार से नुकसान हो सकते हैं – 

  • विटामिन ई का अधिक मात्रा में सेवन रक्तस्रावी स्ट्रोक का कारक है । और ड्रैगन फ्रूट में प्रचुर मात्रा में विटामिन ई पाया जाता है। 
  • ड्रैगन फ्रूट के बाहरी हिस्से को निकालकर ही खाना चाहिए क्योंकि मीठा होने के कारण बाहरी परत में कीट लगे होते है जो हानिकारक है ।
  • बहूत अधिक सेवन से बीटा – कैरोटिन जैसे तत्वों की अधिकता हो सकती है जो फेफड़े के कैंसर का कारक बन सकता है ।

निष्कर्ष

आज हमने इस आर्टिकल में जाना Dragon fruit benefits & side effects के बारे में । अगर आपके मन मे अभी भी  ड्रैगन फ्रूट से सम्बंधित कुछ और सवाल है जो आप जानना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट कर के पूछ सकते हैं ।। 

Leave a Comment