लिपि किसे कहते हैं | लिपि के प्रकार | लिपि की परिभाषा

आज हम हिंदी व्याकरण के एक विषय ‘लिपि’ के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। लिपि शब्द सुनते ही हमारे मन मस्तिष्क में एक ऐसी भाषा की संकल्पना उभर कर आती है, जो हम हमेशा प्रयोग करते हैं या फिर जिसे हम जानते हैं। किंतु जो समझ रहे हैं वह केवल ‘भाषा’ है। लिपि जो होती है वह भाषा को लिखने का ढंग है। आइए आज के लेख में जानते “लिपि किसे कहते हैं?”

लिपि किसे कहते हैं?

साधारण तौर पर लिपि की यही परिभाषा है कि किसी भी भाषा के लिखावट या फिर लिखने के ढंग को लिपि कहा जाता है। आवाज को लिखने के लिए जिन जिन का उपयोग किया जाता है उसे लिपि कहते हैं। या फिर दूसरे शब्दों में ध्वनि चिन्हों को लिखने का ढंग लिपि कहलाता है। लिपि की मदद से हम किसी भी ग्रंथों  जैसे रामायण ,महाभारत या भागवत गीता का संग्रह करके रख सकते हैं।

लिपि के कितने भेद होते हैं?

हिंदी व्याकरण के अनुसार लिपि के ग्यारह भेद होते हैं:-

1 ब्राह्मी लिपि

2 देवनागरी लिपि

3 गुरुमुखी लिपि

4 अरबी लिपि

5 रोमन लिपि

6 गुजराती लिपि

7 बंगाली लिपि

8 तमिल लिपि

9 चीनी लिपि

10 कांजी लिपि

11 ब्रेल लिपि

आइए अब हम लिपि के 11 भेदों को विस्तार पूर्वक समझते हैं।

ब्राह्मी लिपि किसे कहते हैं?

भारत में लगभग समस्त लिपियों का आरंभ ब्राह्मी लिपि से माना गया है। यह आदि काल से है। प्रमाणित रुप से वैदिक काल में आर्यों ने ब्राह्मी लिपि का प्रयोग किया था। बौद्ध कालीन समय पर भी ब्राह्मी लिपि का प्रयोग अपने चरम पर था। ब्राह्मी लिपि के प्रयोग के प्राचीन उदाहरण सम्राट अशोक के अभिलेखों के रूप में उपलब्ध है। यह लिपि दाएं से बाएं लिखी जाती है।

देवनागरी लिपि क्या होती है?

देवनागरी लिपि एक भारतीय लिपि है, जिसमें कई भारतीय तथा विदेशी भाषाएं लिखी जाती है। यह लिपि भी ब्राह्मी लिपि की तरह बाएं से दायें लिखी जाती है। इसकी पहचान क्षैतिज  रेखा से होती है, जिसे ‘शिरोरेखा’ कहते हैं। देवनागरी लिपि विश्व में सर्वाधिक प्रयुक्त लिपियों में से एक है। यह लिपि दक्षिण एशिया की 175 से अधिक भाषाओं को लिखने के लिए प्रयुक्त हो रही है।

गुरुमुखी लिपि किसे कहते हैं?

गुरुमुखी का अर्थ होता है ‘गुरुओं के मुख से निकली हुई।’ गुरुमुखी लिपि भी एक लिपि है जिसमें पंजाबी भाषा लिखी जाती है। यह लिपि गुरुओं की देन है, जिन्होंने अपने प्रभाव से पंजाब में एक भारतीय लिपि को प्रचलित किया, वरना सिंध  की तरह पंजाब में भी फ़ारसी लिपि का प्रयोग हो रहा था, और आगे भी वही बना रह सकता था। सिखों के दूसरे गुरु गुरु अंगद साहिब ने 16वीं शताब्दी में गुरुमुखी लिपि की शुरुआत की।

अरबी लिपि क्या है?

अरबी लिपि में अरबी भाषा सहित कई भाषाएं लिखी जाती है। अरबी लिपि  दाएं से बाएं लिखी और पढ़ी जाती है। अरबी लिपि की कई ध्वनियां उर्दू की ध्वनियों अलग है। हर एक स्वर या व्यंजन के लिए (जो अरबी भाषा में प्रयुक्त होता है) एक और सिर्फ एक ही अक्षर होता है। इस लिपि से कश्मीरी ,उर्दू तथा सिंधी भाषा का विकास हुआ है।

रोमन लिपि किसे कहते हैं?

रोमन लिपि को लेटिन लिपि भी कहा जाता है। रोमन लिपि लिखावट का वह तरीका है, जिसमें अंग्रेजी सहित पश्चिमी और मध्य यूरोप की सारी भाषाएं लिखी जाती है। यह लिपि बाएं से दाएं लिखी जाती है। और बाएं से दाएं पढ़ी जाती है। रोमन लिपि को अंग्रेजों ने अपनी भाषा  लिखने के लिए “लातिनी भाषा” से लिया था। यह लिपि अंग्रेजी भाषा की अपनी लिपि नहीं है।

गुजराती लिपि किसे कहते हैं?

गुजराती लिपि नागरी लिपि से निकली है। गुजराती भाषा में लिखने के लिए देवनागरी लिपि को परिवर्तित करके गुजराती लिपि बनाई गई थी। पुरानी गुजराती लिपि व्यापक उपयोग  में थी। इसकी सबसे पुराने दस्तावेज  1591 से 92 की आदि पर्व की एक हस्तलिखित पांडुलिपि है। यह लिपि पहली बार 1797 में एक विज्ञापन में छपी थी। इसमें  शिरोरेखा का उपयोग नहीं होता है जो देवनागरी में होता है। जैन समुदाय ने भी धार्मिक ग्रंथों की प्रतिलिपि बनाने के लिए इसी लिपि के उपयोग को बढ़ावा दिया। गुजराती लिपि में गुजराती और कच्छी भाषाएं लिखी जाती है।

बंगाली लिपि क्या है?

बंगाली लिपि देवनागरी लिपि का एक परिमार्जित रूप है, जिसे बांग्ला भाषा ,असमिया या विष्णुप्रिया मणिपुरी लिखने के लिए प्रयोग किया जाता है। पूर्वी नागरी लिपि का संबंध ब्राह्मी लिपि के साथ है। आधुनिक बांग्ला लिपि को चार्ल्स विलकिंस द्वारा 1778 में आधार दिया गया।

तमिल लिपि क्या होती है?

तमिल लिपि एक लिपि है, जिसमें तमिल भाषा लिखी जाती है। यह लिपि भारत और श्रीलंका में तमिल भाषा को लिखने में प्रयोग की जाती है। इसे बाएं से दाएं लिखा जाता है। इसके अलावा सौराष्ट्र, बरगा,और पनिया आदि अल्पसंख्यक भाषाएं भी तमिल में लिखी जाती है। तमिल  लिपि को द्रविड़ लिपि भी कहा जाता है।

चीनी लिपि किसे कहते हैं?

चीनी लिपि संसार की प्राचीनतम लिपियों में से एक है। यह चित्र लिपि का ही रूपांतर है, और इसमें अक्षरों की बजाए हजारों चीनी भाव चित्रों के द्वारा लिखा जाता है।

कांजी लिपि कौन सी लिपि है?

कांजी शब्द जापानी है, जिसका शाब्दिक अर्थ “हान वर्णमाला” है। कांजी चीनी वर्णमाला से लिए गए वर्णों का समुच्चय है।कांजी वर्ण  आधुनिक जापानी लेखक में हीरा गाना, काताकाना ,हिंदू अरबी अंको तथा कभी-कभी लैट्रिन वर्णों के साथ प्रयुक्त होते हैं।

ब्रेल लिपि किसे कहते हैं?

ब्रेल लिपि एक तरह की लिपि है कोमा जिसको विश्व भर में नेत्रहीनों को पढ़ने और लिखने में छूकर व्यवहार में लाया जाता है। इस लिपि का आविष्कार 1821 में एक नेत्रहीन फ्रांसीसी लेखक “लुई ब्रेल” ने किया था। यह लिपि आज दुनिया के लगभग सभी देशों में नेत्रहीनों के द्वारा उपयोग में लाई जाती है।

निष्कर्ष:

आज हमने आपको लिपि किसे कहते हैं? इसकी परिभाषा भेद सही जानकारी देने का प्रयास किया है, अगर पसंद आए तो कृपया कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *