लीची के 17 फायदे, उपयोग और नुकसान – Litchis (Lychees) Benefits and Side Effects in Hindi

लीची हमारे शरीर के लिए बहुत ही स्वास्थ्यवर्धक है क्योंकि इसमें कई तरह के खनिज तत्व जैसे तांबा, पोटेशियम, फास्फोरस, मैगनीज, मैग्निशियम आदि तत्व पाए जाते हैं जो कि हमें कई सारी बीमारियों से बचाने में सहायता प्रदान करते हैं। इसी महत्व तथा अच्छे गुण के वजह से इसका उपयोग हर कोई करना चाहता है।

आज हम इस लेकिन आपको Litchis (Lychees) Benefits and Side Effects in Hindi के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान करेंगे। इसी के साथ हम इस लेख में आपको लीची का उपयोग किन किन बीमारियों में किया जाता है, इसका भी विवरण आपके समक्ष प्रस्तुत करेंगे।

Litchis (Lychees) Benefits and Side Effects

लीची का रंग गुलाबी तथा अंदर से सफेद होता है। यह बहुत ही गर्म होती है। इसका आकार 2 इंच चौड़ा और 2 इंच ऊंचा होता है। यह मुख्य रूप से उष्णकटिबंधीय जलवायु में पाया जाने वाला पौधा है। इसे सबसे पहले चीन ने उगाया था। इसके बाद यह भारत में आया, इसकी खेती लगभग 4000 वर्षों से की जा रही है। इसका भारत में मुख्य रूप से उत्पादन बिहार में उगाया जाता है। 

इसी के साथ यह पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, पंजाब, उत्तर प्रदेश, त्रिपुरा आदि राज्यों में भी उगाया जाता है इसके महत्व को देखते हुए दिन प्रतिदिन इसकी मांग बढ़ती ही जा रही है। आइए जानते हैं, इसके फायदे और नुकसान कौन-कौन से हैं।

लीचीकेफायदे

  • कैंसरसेबचानेकेलिए:

लीची में ऐसे कुछ गुण पाए जाते हैं जो कैंसर जैसी बीमारी को रोकने में सहायक होते हैं। इसमें मुख्य रूप से पॉलिफिनॉलिक योगिक और प्रोथीआडेन पाया जाता है। इसमें मुख्य रूप से विटामिन सी भी पाया जाता है परंतु यह दोनों योगिक इससे भी शक्तिशाली होते हैं। जिस वजह से कैंसर की बीमारी नहीं हो पाती है। 

  • पाचनशक्तिकोबढ़ाना:

पाचन शक्ति को मजबूत बनाने के लिए लीची का इस्तेमाल करें, क्योंकि इसमें फाइबर पाए जाते हैं जो कि पाचन तंत्र को अच्छा बनाने का कार्य करती है। इसमें छोटी आत और बड़ी आत में मांसपेशियों की कार्य क्षमता को बढ़ाने का कार्य करता है।

  • प्रतिरक्षाप्रणालीकोमजबूतबनाना:

आप लीची का इस्तेमाल नियमित रूप से करते हैं तो आप की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत हो जाएंगी क्योंकि इसमें विटामिन सी के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं जो कि सफेद रक्त कोशिकाओं को कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करती है। 

  • उच्चरक्तचापकोकमकरना:

यदि आप उच्च रक्तचाप के शिकारी है तो आपको लीची का इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि इसमें पोटेशियम बहुत अच्छी मात्रा में पाया जाता है। जिससे आपके शरीर का द्रव्य संतुलन अच्छा बना रहता है। इससे आपकी चयापचय कार्य अच्छे से चलते रहता है और उच्च रक्तचाप भी कम होने लगता है। 

  • त्वचासंबंधीबीमारियोंकेलिए:

लीची में विटामिन पाया जाता है जो कि त्वचा से संबंधित दाग, धब्बे तथा सूजन को दूर करने में मदद करता है। यदि सूर्य की तेज किरणों के वजह से आपकी त्वचा जल गई है तो तब भी आप इसका लेप बनाकर अपने चेहरे पर लगा सकते हैं। यदि चेहरे पर फोड़े फुंसी है तो आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • बालोंकोमजबूतबनाना:

प्रदूषण की वजह से सबसे ज्यादा असर त्वचा के बाद बालों पर ही पड़ता है और बाल हमारे सिर से गिरने लगे तो यह बहुत ही बेकार लगने लगता है कि कि हम धीरे-धीरे गंजे होने चालू हो जाते हैं। यदि आप इन सब चीजों से बचना चाहते हैं तो आपको लीची का इस्तेमाल करना चाहिए। लीची में विटामिन सी विटामिन B-12 तथा अन्य खनिज लवण पाए जाते हैं जो कि बालों को चमकदार बनाने में मदद करते हैं। 

  • हृदयसेसंबंधितविकारोंकोदूरकरनेकेलिए:

एक शोध में पता चला है कि लीची का इस्तेमाल करने वालों को हृदय से संबंधित बीमारियां बहुत ही कम होती है, क्योंकि इसमें एंटी ऑक्सीडेंट कार्डियोवैस्कुलर पाया जाता है जो कि हृदय गति को सामान्य बनाने का कार्य करता है। जिससे हृदय गति सामान्य बनी रहती है और रक्त को पंप करने में मदद करती है।

  • आंखोंकीबीमारियोंकेलिए:

आंखों से संबंधित विकारों को दूर कर सकते हैं क्योंकि लीची में एंटी ऑक्सीडेंट गुण भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो कि आंखों से संबंधित बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं। इससे आप मोतियाबिंद के शिकार कभी नहीं होंगे।

  • योनशक्तिबढ़ानेकेलिए:

एक अध्ययन में पता चला है कि जिन मनुष्य में योन शक्ति कम होती है उन्हें लीची का इस्तेमाल करना चाहिए। इसमें आप को उत्तेजित करने में मदद करेंगे क्योंकि इसमें तांबा, विटामिन सी, पोटेशियम और विटामिन  B-6 पाया जाता है, जो कि कामेच्छा को उत्तेजित करने में मदद करता है।

  • पैरोंकीसूजनकेलिए

लीची में कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं जो पैरों की सूजन को कम कर देते हैं इसमें विटामिन सी तथा अलकोलाइट पाए जाते हैं जो सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

लीचीकेनुकसान

  • मधुमेह रोगियों को लीची नहीं खाना चाहिए क्योंकि इसमें सर्वाधिक मात्रा में पाई जाती है, यदि आपके रक्त में शर्करा की मात्रा बढ़ जाएंगी तो आपको मधुमेह जैसी बीमारी होने का डर लगा रहेगा।
  • लीची को अधिक मात्रा में नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह आपके शरीर में मौजूद पोषक तत्व को असंतुलित बना देंगे जिससे आप कई प्रकार की बीमारियों के शिकार हो जाएंगे।

Conclusion

आशा करता हूं मेरे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट होंगे। इस लेख का उद्देश्य लीची के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान करना है। हमने इसमें आपको Litchis (Lychees) Benefits and Side Effects in Hindi के में बताया है। यदि आप भी लीची का इस्तेमाल करते हैं तो कई सारी बीमारियों से छुटकारा मिल जाएगा।

Leave a Comment